Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Classic Header

{fbt_classic_header}

Header Ad

Breaking News:

latest

शनि पर्वत पर बनने वाले चिन्ह के बारे में जानकारी प्राप्त करते हैं। The information about the sign formed on the mount of Saturn..

 शनि पर्वत पर बनने वाले चिन्ह के बारे में जानकारी प्राप्त करते हैं। 1. शनि पर्वत पर निर्दोष त्रिभुज का चिन्ह हो तो तंत्र मंत्र के क्षेत्र मे...

 शनि पर्वत पर बनने वाले चिन्ह के बारे में जानकारी प्राप्त करते हैं।

शनि पर्वत पर बनने वाले चिन्ह के बारे में जानकारी प्राप्त करते हैं। The information about the sign formed on the mount of Saturn..

1. शनि पर्वत पर निर्दोष त्रिभुज का चिन्ह हो तो तंत्र मंत्र के क्षेत्र में महारत हासिल करता है।गुप्त विद्याओं का जानकार होता है। उस क्षेत्र में नाम, यस, धन सब कुछ मिल जाता है अगर त्रिभुज दोषयुक्त हो। तो उसका उल्टा समझना चाहिए। शनि महाराज की उपासना करनी चाहिए।


2. अगर शनि पर्वत पर क्रॉस का चिन्ह हो तो व्यक्ति को लड़ाई झगड़े में शरीर पर चोट लगने की प्रबल संभावना होती है। शरीर से भी कमजोर होता है, नपुंसकता का भी शिकार होता है, दुर्घटना होने की संभावना रहती है तथा अकाल मृत्यु भी हो सकता है। उससे बचने के लिए शनि महाराज  की और शिवजी दोनों की उपासना करनी चाहिए।


3. शनि पर्वत पर वृत्त का चिन्ह हो तो एका एक धन की प्राप्ति होती है। लॉटरी जुए से भी धन प्राप्ति होती है। व्यक्ति को मांगलिक कामों  में रूचि होती है।


4.शनि पर्वत पर वर्ग का चिन्ह हो तो हर तरफ से रक्षा कवच का काम करता है। कितना भी अनिष्ट जीवन में क्यों नहीं हो रहा हो रक्षा अवश्य होती है ऐसा व्यक्ति बार बार काल की मुंह मे जाकर बच जाता है। 


5.शनि पर्वत पर अगर द्वीप का चिन्ह हो तो व्यक्ति को जीवन में कठोर परिश्रम करना पड़ता है।तब आंशिक लाभ मिल पाता है। मेहनत का पूरा का पूरा लाभ नहीं मिल पाता। व्यक्ति को पग पग पर।परेशानियाँ देखने को मिलता है उससे बचने के लिए शनि महाराज की उपासना करनी चाहिए।


6. शनि पर्वत पर अगर जाल का चिन्ह हो तो व्यक्ति को भाग्य का साथ कम ही मिल पाता है। व्यक्ति में आलस्य की अधिकता होती है, व्यक्ति आलसी होता है। समय को टालता है। टालना उनके नेचर में होती है। व्यक्ति तो सोचता है चलो आज नहीं तो कल कर लेंगे लेकिन उनको नुकसान उठाना पड़ जाता है। रुपए पैसे की कमी बराबर होती है। ऐसे व्यक्ति कंजूस भी होता है। साधारण जीवन जीने के लिए मजबूर हो जाता है। समाज में कोई स्थान नहीं मिल पाता है। उन सब से बचने के लिए शनि महाराज की उपासना करनी चाहिए। भोले बाबा की उपासना करनी चाहिए।

IN ENGLISH

The information about the sign formed on the mount of Saturn

1. If there is a sign of a flawless triangle on the mount of Saturn, then Tantra attains mastery in the field of mantra. Name, yes, wealth, everything is available in that area if the triangle is defective. So the opposite should be understood, Shani Maharaj should be worshipped.


2. If there is a sign of a cross on the mount of Saturn, then there is a strong possibility of getting hurt on the body in a fight. Weaker than the body, also suffers from impotence, there is a possibility of accident and premature death can also happen. To avoid him, one should worship both Shani Maharaj and Shiva.


3. If there is a sign of a circle on the mount of Saturn, then one gets money. Money can also be earned from lottery gambling. The person is interested in auspicious works.


4. If there is a square sign on the mount of Saturn, it acts as a shield from all sides. No matter how much evil is happening in life, there is definitely protection, such a person is saved by repeatedly going to the mouth of Kaal.


5. If there is an island sign on the mount of Saturn, then the person has to work hard in life. Then you can get partial benefit. The full benefit of hard work is not available. The person gets to see the troubles at every step, to avoid them, one should worship Shani Maharaj.


6. If there is a sign of trap on the mount of Saturn, then the person rarely gets the support of luck. There is an excess of laziness in a person, a person is lazy. defers time. Avoidance is in their nature. A person thinks, let's do it tomorrow if not today, but they have to bear the loss. Rupee equals shortfall of money. Such a person is also a miser. Forced to lead a simple life. There is no place in the society. To avoid all of them, worship of Shani Maharaj should be done. Bhole Baba should be worshipped.

कोई टिप्पणी नहीं